Wednesday, 17 April 2013

दर्द भरी शायरी

बिन बात के ही रूठने की आदत है;
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है;
आप खुश रहें, मेरा क्या है;
मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है।

 दिल की बात शायरी के साथ..!

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.